पापी घर – पार्ट १

विशाल आपनी मोटरसाइकल पर तेज़ी से आपने घर की तरफ आ रहा था. जब से उसने कॉलेज मे प्रिन्सिपल अनुज सर ओर पिंकी मेडम की चुदाई देखी थी तब से उस का लोडा टाइट हो गया था. मदारचोड़ उसकी गर्लफ्रेंड शिल्पा भी तो नही आई थी, वरना उसकी चूत मार लेता. घर पर आते ही फटाफट मेन गेट खोल कर विशाल अंदर आया ओर सोफे पर बैठ गया. सामने उसकी मम्मी सविता बैठि थी. “मम्मी आज बहुत गर्मी है, एसी की कूलिंग भी कम लग रही है”. विशाल को देख कर उसकी मम्मी रोने लगी. “क्या हुआ मम्मी?” विशाल ने पूछा.

“तेरे पापा आज भी उस काम वाली दीपा की गाड़ मार रहे है, मेरी तो कोई फिकर ही नही है. सुबह से मेरी चूत प्यासी है.” मम्मी ने रोते हुए कहा, और विशाल के पास आ के बैठ गयी. सविता ने विशाल के लोड्‍े को जीन्स के उपर से सहलाना शुरू कर दिया. “मे अभी पापा ओर दीपा को बताता हू. कितनी बार पापा को कहा है पहले घर की चूत फिर बाहर की.” विशाल गुस्से से बोल रहा था.

विशाल ने आपनी जीन्स खोल दी और नंगा हो गया. “क्या बात है आज तेरा लोड्‍ा बहुत सकत है.” मम्मी ने पूछा. “क्या बताओ मम्मी आज कॉलेज मे प्रिन्सिपल ओर मेडम की चुदाई देख ली. तब से मेरा लॉडा खड़ा है.” विशाल ने भी मम्मी का ब्लाउस खोल दिया. सविता की 48 साइज़ के पपीते लटक गये. विशाल ने आपनी मम्मी के निपल चूसने चालू कर दिए. “बस तू ही मेरा साचा बेटा है, तू ही अपनी मम्मी का ध्यान रखता है. अगर तू ना होता तो मेरी चूत प्यासी रहती.” विशाल ने आपनी मम्मी को सोफे पर लेटा दिया और उस की टाँगे खोल दी. “मम्मी मुझे बहुत प्यास लगी है. ज़ल्दी से मूत, मेरा गला सुख रहा है.”, इतना कह कर विशाल ने आपना मूह मम्मी की चूत पर लगा दिया. “तू मेरा कितना ध्यान रखता है” और मम्मी मुतने लगी. विशाल आइसे मम्मी की चूत पर मूह लगा कर बेता था की एक बूँद भी वेस्ट ना हो.

पूरा मूत ख़तम होने के बात विशाल चूत को चाटने लगा. आपनी पूरी जिब चूत मे घुसा दी. “बस बेटा बस, उऊः उउहा बहुत मज़ा आ रहा है. इस तरह बस इसी तरह. थोडा और अंदर, थोडा और अंदर, हा इसी तरह. उऊः उउहा उूुउउ.” मम्मी ऐसे मचल रही थी जैसे सालो से ना चुधी ना हो.

Comments