ट्रिपल सेक्स

हेल्लो दोस्तों
मैं राहुल फिर आया हूँ एक ऐसी कहानी लेकर जो हुआ है लेकिन कैसे ये कहानी में ही पता चलेगा तो सुनिये आप अपना फीडबैक दे सकते है

ये बात आज से 10 दिन पहले की है जब मैं, शिवानी और मेरा दोस्त अनिल उसकी पत्नी सीमा ने मिलकर वैष्णो देवी माँ के दर जाने का फैसला किया हुआ यु की अनिल की शादी के 2 साल हो गए थे लेकिन अभी तक कोई बच्चा नही हुआ था तो उसकी पत्नी ने ही एडवाइस दिया की माता के दर चलो मुरादे जल्दी पूरी हो जाएगी ।अनिल ने मुझे भी कहा कि हम भी चले इसी बहाने टूर भी हो जाएगा

12 feb 2019 की सुबह हमने ट्रैन से कटरा जाने के लिए निकल गए
ज्यादा बोर नही करूँगा सीधा कहानी पर आता हूँ
हुआ यु की ट्रेन में मैं और सीमा दोनों एक साथ बैठे हुए थे तभी बात चित चल रही थी फिर अनिल सोने चला गया और शिवानी तो है ही सोने में आगे ।
मैं और सीमा दोनों काफी देर तक बात कर रहे थे तभी मैंने पूछा
मैं – भाभी क्या बात है आपने फिगर बड़ा मेंटेन कर रखा
सीमा – ओह्ह रियली , थैंक यू राहुल जी
मैं – सच्ची में , बताइये न क्या खाती है आप ?
क्योंकि ज्यादातर लड़की शादी के बाद मोटी हो जाती है शिवानी को ही देख लो भैंस हो गई
सीमा – अरे ऐसा कुछ नही खाती मैं ।
रही बात शिवानी की वो बहुत सुंदर है ।
मैं – सुंदर तो आप भी बहुत है एक दम चाँद की तरह ।
सीमा – धन्यवाद राहुल जी, लेकिन इस चाँद में भी दाग है ।
मैं – दाग ? मुझे तो कही दाग नही दिख रहे ।
सीमा – राहुल जी , मै माँ नही बन पा रही हूँ 2 साल हो गए शादी को, लेकिन😔😔😔
मैं – अरे उदास मत होइए सब ठीक हो जाएगा माता रानी सब ठीक कर देगी ।
सीमा – आप सही कह रहे है । मैं भी मन्नत लेती हूँ मेरी गोद भर गई तो माता रानी के नाम का भंडारा करुंगी ।

इसके बाद वो भी सोने लगी
रात के 12:30 बज रहे थे ट्रैन में लगभग सभी लोग सो रहे थे मैंने मोबाइल में अप्प के जरिये देखा तो पता चला की कटरा आने में 30 मिनट और बाकी है मैंने सोचा सभी को जगा देता हूँ ताकि सामान पिकप करने में जल्दबाजी न हो बाद में
मैंने सभी को उठाया और तैयारी करी उतरने की फिर 1 बजे हम सब कटरा पहुच गए और वहाँ उतरने के बाद हमने पास के ही होटल में 2 रूम बुक किया और अपने अपने रूम में चले गए
अब हुआ क्या ये देखिये
एक्चुअली सीमा ने शिवानी का चादर ओढ़ लिया था और शिवानी ने सीमा का
हम सब नींद में इतने थे की ज्यादा ध्यान नही दिया
मैं सीमा को शिवानी समझ इंस्ट्रक्शन देता गया और वो भी नींद में होने की वजह से हाँ हाँ बोलते बोलते साथ में मेरे रूम में आ गई।
मैं सामान रखा और बेड पर जा गिरा और लेट गया सीमा वो भी लेटी हुई थी लाइट सब बन्द करदी थी
मैं और सीमा दोनों एक ही बेड पर मदहोश नींद में थे रात गहरी थी कटरा का मौसम अचानक ठंडा पड़ गया
मुझे लगने लगी ठंड
ठंड की वजह से नींद में ही मैं सीमा को अपने आगोश में ले लिया ठण्ड और बढ़ती जा रही थी और कम्बल से मेरा और सीमा(शिवानी समझ) का बुरा हाल हो रहा था समझ नही आ रहा था क्या करूँ एक तरफ नींद दूसरी तरफ ठंड
मैं और सीमा दोनों ने एक दूसरे को कास कर बाहों में भर लिया
इसके बाद मुझसे रहा नही गया और मैंने सीमा के पायजामा में हाथ डाला और उसके गांड पर हाथ फेरने लगा
तभी सीमा भी मुझे अनिल समझ मेरे पेंट के हुक को खोल अंदर हाथ डाल दिया तब उसने मेरे लण्ड को पकड़ सहलाने लगी,
ऐसा करने से उसको और मुझे दोनों को गर्माहट मिलने लगी
तभी सीमा बोली
अनिल जी, माता रानी हमारी झोली भरेगी न ?

ये सुनते ही मेरा 17 CM का लण्ड सुख कर 5 CM का हो गया
मैं समझ गया कि गलती से शिवानी की जगह सीमा आ गई
फिर इमेजिन करने लगा की अनिल भी ठंड में क्या क्या कर रहा होगा ।
वैसे भी शिवानी तो बिना कुछ बोले अपनी खोल कर चुदती रहेगी ।
मैं सोचा की जब अनिल मेरी बीबी चोड़के झूठा कर ही देगा क्यों न सीमा को भी चोद देता हूँ

फिर मैंने सीमा को अंधेरे में ही घुमा दिया और पायजामा ढीला कर नीचे उतार दिया
लण्ड को उसके गांड के क्लीवेज पर रख सहलाता रहा
जो सेक्स में शिवानी के साथ नही कर पाया वो मैं सीमा के साथ करने की सोच रहा था,
जब मेरा लण्ड अपने पूरे शबाब पर था तो मैंने धीरे धीरे सीमा के गांड के छेद पर लण्ड रखा
तो सीमा बोली अनिल मैंने आपको बोला हुआ है न
किमुझे इसमे दर्द बहुत होता है मैं बिना कुछ बोले सब छोड़ कर अलग हट गया
और नाटक करने लगा की जैसे नराज हूँ
सीमा थोड़ी देर तो रुकी फिर मेरे ऊपर आ गई और बोलने लगी
अनिल जी ऐसे करोगे तो माता पिता कैसे बनेगे ?
इतना बोलने के वो मेरे लण्ड को अपने मुंह में लिया और चूसने लगी जैसे जैसे लण्ड शबाब में आया तो मेरा पूरा लण्ड उसके मुंह को कवर कर लिया
फिर मैंने उसको अपने ऊपर किया और अपने हाथों से उसके चूचियो को दबाने लगा
माँ कसम यार
चूचिया ऐसी थी मानो जैसे तरबूजा
बड़े बड़े और रुई जैसे सॉफ्ट चेरी जैसे निप्पल मन तो किया कि चूस लू आम के रस को
फिर ख्याल आया जल्दबाजी नही करना इसका रस धीरे धीरे पिने में मजा आएगा ।
फिर मैंने उसको थोड़ा उठाया और अपना लण्ड उसके गांड के छेद पर रखा वो फिर मना करने लगी मैंने बिना कुछ बोले उसको अपनी तरफ खिंचा और उसके ऊपर चढ़ गया और सबसे पहले उसके होठो को अपने होठों से चूसने लगा वो समझी के मैं मान गया हूँ
लेकिन मेरा इरादा कुछ अलग था
पहले मैंने उसकी गांड ऊपर उठाई और अपने लण्ड को फिर छेद पर रखा और बिना देर करते हुए एक धक्का मारा
मेरा आधा लण्ड उसके गांड में जा चूका था उसकी चीख भी निकली लेकिन मैं अब इसके साथ नरमी नही बरतने वाला था
मैंने फिर एक बार लण्ड बाहर निकाला और छेद पर रख दोबारा एक धक्का मार दिया इस बार वो और तेज चीखी मेरा लण्ड भी पूरा अंदर जा चूका था
सीमा – अनिल जी बस करो, दर्द होता है बहुत
मैं – प्लीज(दबी आवाज में) करने दो यार मजा आ रहा है ।
सीमा – आपके आवाज को किया हुआ जी ?
मैं – वो कोल्ड ड्रिंक पिया था न ट्रैन में इसलिए गाला बैठ गया है ।
सीमा – ओके लेकिन प्लीज मेरी गांड तो मत मारो दर्द होता है बहुत
मैं – आज भर प्लीज इसके बाद नही ।
सीमा – ओके , लेकिन सिर्फ आज

मैं तैयार हुआ दोबारा और एक बार फिर एक झटके मारे और
झटके मारने की स्पीड तेज करदी पूरा रूम घपा घप की आवाज से गूंज रहा था उसके बाद मैंने लण्ड निकाला और उसकी चूत पर रखा और फिर मैंने एक तेज तरार धक्का मारा और उसके अंदर पेल दिया ।
15 मिनट की चुदाई के बाद मैंने फील किया किया मैं झड़ने वाला हूँ मैं अपने लण्ड को गहराई तक ले गया चुत के अंदर , फिर मैंने अपना वीर्य छोड़ दिया ,
वीर्य छोड़ने के बाद मैंने उसके चूचियो को चूसने लगा क्योंकि मैं चाहता था कि आज की चुदाई की निशानी सीमा हमेशा याद रखे, इसलिए जब मैं उसके चूचियो को चूस रहा था तब मैंने उसके निप्पल को एक बच्चे की तरफ चूस रहा था और काट भी रहा था चूसते चुस्ते मैंने फील किया की उसका दूध निकलने लगा था ये बाद मुझे अजीब लगी क्योंकि वो तो अभी माँ भी नही बनी थी
चूचियो के मसलने के बाद मेरा इरादा था कि उसके होठो को भी मसलू लेकिन गुलाब के पंखुडियो को मसल कर रखना मैं नही चाहता था इसलिए बस उसके रस को चूसता रहा जब तक चूसता रहा जब तक उसके होठ सूज न गए
लगातार 2 घंटे हो गए थे मैं समझ गया था कि वो थक गई है इसलिये उसके चुत में लण्ड डाले हुए मैं सो गया

जब सुबह हुई तब मेरी नींद खुल गई थी लेकिन सीमा सो रही थी इसलिए मैं भी ज्यादा हिले डुले बिना उसी के ऊपर पड़ा रहा क्योंकि मैं चाहता था कि अनिल मेरे और सीमा के बीच हुए सेक्स को जाने ।

सुबह के 8:30 बज गए थे तभी हमारे रूम को नॉक किया गया
मैं समझ गया कि अनिल/शिवानी में से कोई आया होगा
लेकिन मैं उठ कर नही गया क्योंकि मैं चाहता था कि दरवाजा वो खुद खोलकर आए
क्योंकि अनिल के पास हमारे रूम की दूसरी कीय थी, वैसे ही हुआ
अनिल रूम में आया
अनिल के आने का एहसास मुझे हो गया था लेकिन मैं उसका रिएक्शन देखना चाहता था तभी उसने मुझे नंगा उसकी बीबी के ऊपर लेटा हुआ था और मेरा लण्ड उसी के बीबी के चुत में डाला हुआ था
ये सब देखने के बाद वो जोर से चिल्लाया
सिमा???????????
सिमा एक दम से उठी और मुझे अपने ऊपर देख चौक गई और धक्का दिया और अलग हो गई
मैं भी ऐसे करने लगा जैसे मैं अभी ही जगा हूँ
फिर मैं भी सेम सीमा जैसा करने लगा
उसको चौकने वाले आँखों से देखने लगा ।

सीमा कुछ बोलती उससे पहले मैंने ही सवालो के बाण उसी पर छोड़ दिया
मैं – अरे सीमा भाभी आप , यहाँ ? कैसे ? शिवानी कहाँ है ??
सीमा – राहुल जी?? आप थे मेरे साथ??
मैं – मतलब ? शिवानी कहाँ है ?
अनिल – शिवानी भाभी मेरे साथ मेरे रूम में सो रही थी ।
सीमा – क्या ? पर ये सब हुआ कैसे ?
अनिल – पहले ये बताओ सेक्स करने की क्या जल्दबजी थी जिसमे तुमको राहुल और मुझमे फर्क पता नही चला ।
सीमा – अनिल जी , कल रात ठण्ड बहुत थी राहुल जी मेरे पास सो रहे थे मुझे लगा मै आपके साथ हूँ और आपको ठण्ड लग रही है इसलिए गर्माहट देने के लिए सेक्स किया ।
राहुल – हाँ अनिल , सीमा सही कह रही है , कल रात यही हुआ था सीमा को मैं भी नही पहचान पाया क्योंकि उन्होंने शिवानी का चादर ओढ़े हुए थी ।

काफी देर ऐसे ही कन्वर्सेशन चलने के बाद ये डिसाइड हुआ की जो भी हुआ उसे भूल जाते है और आज की बात किसी को भी कानो कान खबर नही होनी चाहिए
मैं – ये सब छोडो पर शिवानी कहाँ है ?
अनिल – शिवानी भाभी मेरे रूम में अभी भी सो ही रही है ।
मैं – तूने भी कुछ ??
अनिल – अरे भाई मेरे पास ठण्ड से बच्चने का सामान था(बियर) और रही बात भाभी तो पहले से ही मोटे मोटे कपडे पहने हुए थी ।
सुबह हुई तो तुझे उठाने आया और देखा तो बस???
मैं – शिवानी को ये बात पता नही लगनी चाहिए क्योंकि वो पागल औरत है कल रात की मज़बूरी और घटना को नही समझ पाएगी ।
अनिल – चल ठीक है अभी तू मेरे रूम में भाभी के पास चला जा ।

मैं भी ऐसा ही किया और तुरंत शिवानी के पास पहुच गया ।

यात्रा में और भी बहुत कुछ हुआ आगे की कहानी में आने वाली कहानियो में बताता जाऊंगा
वैसे ये कहानी कैसे लगी ?
प्लीज पिछले कहानी में जितना प्यार आप लोगो का मुझे मिला मैं उसके लिए आप सभी का तहेदिल से शुक्रिया करता हूँ ।
मेरा ईमेल id है [email protected]
प्लीज अपने फीडबैक मुझे मेल जरूर करे
धन्यवाद ।

Comments